Sunday, January 3, 2010

अंतिम अभिलाषा.....


अर्थी मे से जब धुंआ निकले तो समझ लेना उसकी भाषा...
अब अगले जनम में मिलेंगे...ये है मेरी अंतिम अभिलाषा....!!

6 comments:

  1. अभी इतनी जल्दी अंतिम अभिलाषा की ज़रुरत नहीं है...ज़िंदगी पूरी पड़ी है...जीने के लिए...!!

    ReplyDelete
  2. अभी इतनी जल्दी अंतिम अभिलाषा की ज़रुरत नहीं है...ज़िंदगी पूरी पड़ी है...जीने के लिए...!!

    ReplyDelete
  3. jo jivan ko jan lete hain unke liye har pal utsav ho jata hai.

    ReplyDelete
  4. antim nahi.. aik nayi shuruaat .. aapki post kal charchamanch par hogi.. Dhanyvaad

    ReplyDelete
  5. @ Dr. Nutan
    Thanks Dr. sahab..
    :-)

    ReplyDelete